Header Ads

Bharat ki khoj kisne kiya tha | भारत की खोज किसने किया

 

वास्को डी गामा ने भारत की खोज कब किए ?

वास्को डी गामा ने मई 1498 में भारत की खोज किए । वह अटलांटिक महासागर के माध्यम से भारत आने वाले पहले यूरोपीय थे। उन्होंने केप ऑफ गुड होप का चक्कर लगाए, और अफ्रीका के पूर्वी तट पर मालिंदी में रुके ।

वास्को डी गामा ने भारत में समुद्री मार्ग से 

वास्को डी गामा ने साल 1497 - 1499 के दौरान भारत के लिए समुद्री रास्ते की खोज किए तथा भारत में समुद्री मार्ग से ही भारत ए थे । 20 मई, 1498 को अपने स की सुरुआत किए और  लिस्बन, पुर्तगाल से होते हुए अपनी यात्रा के दो साल बाद 1499 में वास्को डी गामा कोझीकोड (कालीकट) केरल में भारत के पश्चिमी समुद्र के किनारे पर पहुंचे। यह इतिहास में पहली बार था कि जब कोई यूरोपीय समुद्र के रास्ते भारत में आया । इसी कारण से वास्को डी गामा को प्रथम भारत की खोज करने का श्रेय दिया जाता है। अफ्रीका के पश्चिमी तट पर नौकायन और केप ऑफ गुड होप होते हुए, कोझीकोड (कालीकट) केरल पहुँचने से पहले उनके अफ्रीका समुद्री मार्ग में कई जगह रुकते हुए आए थे। 

bharat-ki-khoj-kisne-kiya-tha

वास्को डी गामा का आगमन

  • पश्चिम देश से बड़ी संख्या में व्यापारियों और नाविकों ने भारत के लिए समुद्री रास्ते खोजने की कोशिश किए थे

  • भारत उस समय में मसालों और अन्य धन के लिए व्यापक रूप से मशहूर था।

  • क्रिस्टोफर कोलंबस ने जब 1492 में अनजाने में अमेरिका का खोज किए थे तो अमेरिका भी वास्तव में भारत के तट पर पहुंचना चाहता था ।                                                                                                      

  • वास्को डी गामा, पुर्तगाली के रहने वाले थे जो भारत को समुद्री मार्ग से खोज करने में सफल रहे।

  •  यूरोप में भारत से मसाले और कई और समानों की भारी मांग थी।

  • यह खास बात है कि केन्या में एक भारतीय ने वास्को डी गामा को उपमहाद्वीप की दिशा बताने में मदद की और उस भारतीय ने वास्को डी गामा को यहा के मानसून के बारे में भी बताया।

  • 20 मई, 1498 को, वास्को डी गामा कोझीकोड (कालीकट) केरल के पास कप्पड़ पहुंचे, जो उस समय कोझीकोड (कालीकट)  समुथिरी राजा के राज्य का हिस्सा था।

 

READ

 

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.