Header Ads

Kabir das ke dohe | Sant kabir ke vani | Kabir | Kabir das ji | Sant Kabir | Kabir das dohe with meaning

 Kabir das ke dohe | Sant kabir ke vani | Kabir | 

   Kabir das ji |  Sant Kabir | Kabir das dohe with meaning


1)  बुरा जो देखने मैं चला, बुरा ना मिलिया कोय,
        जब दिल खोजा अपना, मुझसे बुरा न कोय।
           मतलब : जब कभी भी मैं इस दुनिया में बुराई को खोजने के लिये निकले तो फिर मुझे कोई भी बुरा नहीं                    मिला , फिर जब मैने अपने आत्मा में झाँक कर देखे तो फिर मुझसे बुरा कोई नहीं मिला

(2)    पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित होय न कोय,
          ढाई आखर प्रेम की , पढ़े सो पंडित होय।
           मतलब : बड़ी बड़ी किताबें पढ़ कर भी इस दुनिया में बहुत सारे लोग मृत्यु के द्वार चले  गए या मर गए,                      फिर  भी लोग विद्वान नहीं हो पाए. कबीर कहना चाहते हैं कि
              यदि कोई भी प्रेम के सिर्फ ढाई अक्षर या शब्द ही अच्छी तरह से पढ़ लेंगे , तो  प्यार का असली चीज                        पहचान  लेंगे तो वही सच्चा ज्ञानी होगा.

(3)      तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
            कबहुँ उड़ी आँखिन मे , तो पीड़ घनेरी होय।
              मतलब : कबीर कहना चाह रहे हैं कि एक छोटी सी तिनका की भी कभी बुराई नहीं करना चाहिए जो                       तुम्हारे या हमारे पैर के नीचे दब जाता है,  क्युकी कभी वही तिनका उड़कर आँख में आ गिर                                    तो कितनी ज्यादा कष्ट और तकलीफ होगी

(4)       धीरे-धीरे रे मना, धीरे से सब कुछ होय,
             माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए तब फल होय।
              मतलब : मन में धर्य रखने से ही सब कुछ हो सकता है. क्युकी कोई भी माली कोई पेड़ को सौ या कितने                  ज्यादा पानी से सींचने क्यू न लगे उस पेड़ मे तब भी फल लगेगा जब फल लगने की ऋतु या समय                           आएगा 

(5)        जाति न पूछो साधु की, पूछ लो ज्ञान,
              मोल करो तलवार , पड़ा रहन दो म्यान।
               मतलब : किसी भी बुद्धि वाले इंसान से जाति न पूछ कर उसके ज्ञान या उसके बुद्धि को                                           समझना सीखना चाहिए, क्युकी तलवार की मूल्य लगाया जाता है नहीं कि उसकी मयान का – उसे ढक                   कर रखने वाले खोल का

(6)        कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबका खैर,
              ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर ||                                 
               मतलब : हमारे इस संसार से कबीर सबके अपने जीवन में बस यही चाहते हैं कि सबों का भलाई हो और                  इस संसार में यदि किसी से मित्रता नहीं करो तो दुश्मनी भी ना करना चाहिए  |

(7)         कबीर लहरि समंद की, मोती बिखर आई ,                                                                                                          बगुला भेद ना जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई ||
                 मतलब : कबीर यह कहना चाहते हैं कि समुद्र की चलते लहर में कुछ मोती आकर बिखर गए, पर                           बगुला उसका भेद या मतलब नहीं जान रहा है , लेकिन हंस उसका मतलब समझ रहे है और मोती                          को चुन-चुन कर खा रहे है.
                    इसका मतलब यह है कि कोई भी वस्तु या समान का महत्व जानकार ही पता लगता है।

(8)           जब गुण को गाहक मिले, फिर गुण लाख बिकाई ,                                                                                                 जब गुण को गाहक न, तब कौड़ी बदले जाई ||
                    मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि जब गुण को परख रखने वाले को कोई भी ग्राहक                                    मिल जाता है तो गुण की कीमत या दाम लगती है, लेकिन जब ऐसा कोई ग्राहक नहीं मिलेगा                                  तब तो  गुण का कौड़ी के भाव मे चला जाता है.

(9)             कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस,
                   न जाने कहाँ मारिसी , कै घर कै परदेस ||
                     मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि हे मानव जाति ! तुम क्यू घमंड कर रहे हो ?                                           काल या समय तुम्हें अपने हाथों में तुम्हारा बाल को पकड़े हुए है, और तुम्हें मालूम नहीं, वह तुम्हें                              कही भी किसी भी घड़ी पर तुझे मार डालेंगे .

(10)            नीर केरा बुदबुदा, अस मानुस की जात,                                                                                                                एक दिना छिप जाएगा,ज्यों तारा परभात ||
                     मतलब: कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि जैसे पानी के बुलबुले होते है , कुछ ही देर के लिये और                             थोरे देर बाद वह फुट यानि की खत्म हो जाती है , इसी प्रकार मनुष्य का शरीर क्षणभंगुर यानि की                              कब ये शरीर है और कब नहीं है।
                          जैसे सूर्य निकलते ही दिन मे एक भी तारे नहीं मिलते या छिप जाते हैं, वैसे ही ये हमारा देह और                              शरीर भी एक न एक दिन नष्ट या खत्म हो जाएगी.

(11)             संत न छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत,
                    चन्दन भुवंगा बैठिया, तऊ सीतलता ना तजंत।
                     मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि सज्जन या ज्ञानी को चाह                                                                        करोड़ों दुष्ट पुरुष या लोग मिलें फिर भी वह अपने भले
                       और अच्छे स्वभाव को नहीं छोड़ना चाहता . उसी तरह चन्दन के पेड़ से सांप                                                         हमेशा लिपटे रहते हैं, पर चंदन का पेड़ अपनी कभी भी शीतलता नहीं छोड़ता |


(12)              अच्छे दिन पाछे गए, हरि से किया न हेत ।
                      अब पछतात होत क्या, चिड़िया चुग गयी खेत ॥
                        मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि सुख के समय में भगवान् का स्मरण या याद कभी नहीं                            किया, तो अब क्यू पछताते हो पछताने का क्या फ़ायदा। उसी तरह जिस समय खेत पर ध्यान                                 देना चाहिए था, तब तो दिए नहीं,
                           अब अगर चिड़िया सारे बीज खा चुकी हैं, तो पछताने से क्या फायदा ।

(13)                  चली जो पुतली लौन की, थाह सिंधु की लेन ।
                          आपहू गली पानी भई, उलटी काहे का बैन ॥
                           मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि जब नमक सागर की गहराई मापने                                                       गया तो खुद ही उस खारे ओर नमकीन पानी मे मिल गया। इस उदाहरण से कबीर                                                  यह बताना चाहते है की
                              ईश्वर की विशालता को दर्शाना चाह रहे हैं कि जब कोई भी सच्ची आस्था और मन से                                              भगवान् को खोजता है, तो वह खुद ही उसमे समा जाता है।

(14)                     चिड़िया चोंच भरि ले गई, घट्यो ना नदी को नीर ।
                             दान दिये धन न घटे, कहि गये दास कबीर ॥
                               मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि जिस तरह चिड़िया के चोंच भर पानी को                                                ले जाने से  उस नदी के जल में कोई भी कमी नहीं आती , उसी तरह से अगर हम किसी                                          जरूरतमंद को दान दे तो दान देने से कभी किसी के धन में कोई कमी नहीं आती ।

(15)                      हरि रस पीया जानिए , कबहू ना जाए खुमार ।
                              मैमता घूमत फिरे, नाही तन की सार ॥
                               मतलब : कबीर यह कहना चाह रहे हैं कि जिस व्यक्ति ने परमात्मा के अमृत को चख                                             लिया  हो, वह सारा समय उसी नशे में मस्त होता है। फिर उसे ना अपने शरीर या तन कि,                                      ना ही अपने रूप और भेष कि चिंता रहती है।

 Also read 

           holi ke bare me jankari

 

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.